गर्भावस्था के आवश्यक आहार – Pregnancy Diet in Hindi

गर्भावस्था के आवश्यक आहार

हर महिला की यही इच्छा होती है की वो एक स्वस्थ बच्चे को जनम दे। इस इच्छा को पूरी करने के लिए गर्भावस्था में पोष्टिक आहार (pregnant lady diet) पर्याप्त मात्रा में लेना बहुत ज़रूरी है। गर्भस्थ शिशु का विकास मा के सही डाइट प्लान (Diet Plan) पर निर्भर करता है। प्रेग्नेन्सी डाइयेट में सामानया महिला को 2000 कॅलरीस का आहार करना चाहिए। फुड एंड न्यूट्रीशन बोर्ड के अनुसार, महिला को प्रेग्नेन्सी डाइट चार्ट (Diet Chart) के मध्यम से 300 कॅलरीस अतिरिक्त मिलनी ही चाहिए। यानी सामानया महिला की अपेक्षा गर्भवती महिला को 2300 कॅलरीस प्राप्त हो इतना आहार लेना चाहिए और विविध विटमिन्स, मिनरल्स अधिक मात्रा में प्राप्त करना चाहिए।

चिकित्सक हमेशा गर्भवती महिला को यही सलाह देते है कि, वो अपने आहार में अलग अलग तरह के स्वास्थवर्धक आहार ले। क्योकि यह बच्चे के विकास के लिए बहुत ज़्यादा ज़रूरी होता है।

प्रेगनेंसी डाइट – Pregnancy Diet in Hindi

गर्भावस्था में एक महिला को दिए जाने वाले आहार (pregnant lady diet tips) में कौन कौन से आवश्यक तत्त्व होने चाहिए और कितनी मात्रा में होने चाहिए इसकी अधिक जानकारी नीचे दी गयी है:

प्रेगनेंसी में प्रोटीन – गर्भवती महिला को आहार में प्रतिदिन 60-70 मिलीग्राम प्रोटीन मिलना चाहिए।

गर्भावस्था में कैल्शियम – गर्भवती महिला को प्रतिदिन 1500-1600 मिलीग्राम कैल्शियम मिलना चाहिए।

गर्भावस्था में पानी – प्रेग्नेन्सी महिलाओ को प्रतिदिन कम से कम 3 लीटर पानी ज़रूर पीना चाहिए। गर्मी के मौसम में 2 ग्लास अतिरिक्क्त पानी पीना चाहिए।

प्रेगनेंसी में विटमिन्स – गर्भावस्था में विटामिन की ज़रूरत बढ़ जाती है।

प्रेगनेंसी में ज़िंक – गर्भवती महिलाओ के लिए प्रतिदिन 10 से 20 MG ज़िंक की आवश्यकता होती है।

गर्भावस्था के दौरान पौष्टिक भोजन (प्रेगनेंसी डाइट)

गर्भावस्था के दौरान हर महिला के लिए बहुत ध्यान देने वाला होता है। इस समय वो ना केवल खुद का बल्कि अपने साथ अपने शिशु का भी ख़याल रख रही होती है। वो जो कुछ भी खाती है उसका असर उसके अंदर पल रहे बच्चे पर भी पड़ता है। आप क्या खाये क्या नहीं कि समस्या से जूझ रही है, आप अभी भी असमंजस में है तो इसी समस्या के समाधान के लिए हम आपको बताने जा रहे है उन गुणकारी पदार्थो के बारे में जिन्हें खाकर आप एक स्वस्थ और सुन्दर बच्चे को जनम देने में आपकी मदद करेंगे।

तो आइए आपके द्वारा गर्भावस्था में लिए जाने वाले आहारों का हिंदी में (Pregnancy Diet in Hindi) विस्तार से विवरण करते है।

प्रेगनेंसी में फल और सब्जियों का भरपूर करे सेवन:

फल और सब्जियो में बहुत सारे ज़रूरी न्यूट्रियेंट्स होते है। इसलिए गर्भवती महिला को यह दोनो चीज़े अपने भोजन में ज़रूर शामिल करना चाहिए। प्रेगनेंसी डाइट का मतलब यह नही है कि हम आपको बहुत सारा खाने के लिए कह रहे है, लेकिन इससे हमारा यह तातपर्य है कि आपको अपनी डाइट (Diet) में संतुलित आहार को शामिल करना चाहिए जिसमे फल, सब्जी, साबूत अनाज सब कुछ शामिल हो।

pregnancy me konsa fruit khana chahiye : फल जैसे की संतरे, अंगूर और सब्जिया जैसे की टमाटर, अंकुरित मोठ आदि में विटामिन सी और फॉलिक एसिड होता है। और गर्भवती महिला को रोजाना 70 mg, विटामिन सी की ज़रूरत होती है।

पालक और हरी सब्जियो मई विटामिन A और C होता है और साथ ही महत्वपूर्ण फोलिक होता है। इससे आपके आँखो का स्वास्थ सुधरता है।

गर्भवस्था में साबूत अनाज का करे प्रयोग:

गरभवती महिला यदि आहार में साबूत अनाज लेती है तो इससे उन्हें ना केवल उर्जा मिलती है बल्कि यह आइरन, फाइबर और विटामिन B कि कमी को भी पूरा करता है।

हर महिला अपने प्रेग्नेन्सी डाइट प्लान में कारबोहाइड्रेट की पूर्ति के लिए साबूत अनाज जैसे की पास्ता, ब्राउन राइस, आदि शामिल करे।

गर्भवस्था में अखरोट का उपयोग:



अखरोट, ओमेगा ३ का सबसे अच्छा स्त्रोत है। एक मुट्ठी भर अखरोट खाना गर्भवती के लिए फयदेमंद है।

अखरोट में काफी मात्रा मई प्रोटीन और फाइबर होता है जो आप और आपके शिशु के लिए अच्छा है।

प्रेगनेंसी में दूध का उपयोग होगा सबसे फायदेमंद:

जब भी आप गर्भवती होती है तो आपका शरीर, आपके सेवन किए गये खाद्य पदार्थ का केवल दो प्रतिशत लेता है। इसलिए आपको कैल्शियम के बारे में इतना सोचने की ज़रूरत नही है।

आप जितना कैल्शियम रोजाना लेते है उतना ही काफ़ी है। लेकिन कुछ लोग अपनी दैनिक ज़रूरत के हिसाब से भी कैल्शियम नही लेते है। यदि आपके साथ भी एसी ही कुछ स्थिति है तो आप ध्यान रखे।

रोजाना, नों फैट दूध पीना आपके लिए एक अच्छा कदम साबित हो सकता है। एक 8 आउन्स का गिलास, आपके 1000 मिलीग्राम का 30 प्रतिशत पूरा कर देता है।

तरल पदार्थ करेंगे स्वस्थ शिशु पैदा करने में मदद:

गर्भावस्था के दौरान आपको बहुत सारे तरल पदार्थो का सेवन करना चाहिए। पानी और ताजे फलो का रस आपके लिए बहुत फयदेमंद है।

नारियल का पानी भी गर्भवती स्त्री के लिए बहुत फयदेमंद होता है। इसलिए अपने प्रेग्नेन्सी डाइट मेनू (Diet Menu) में इसका नाम ज़रूर शामिल कर ले।

हमेशा उबले हुए पानी का इस्तेमाल करे। और, जब भी आप बाहर जाए तो अपने साथ एक पानी की बॉटल ज़रूर साथ में रखे।

अंगूर का सेवन करना चाहिए क्योकि इससे शरीर मई पानी की कमी नही होती है।

बहुत सारी बीमारिया पानी की वजह से होती है, इसलिए इस दौरान बाहर का पानी न पिए।

गर्भावस्था में खानपान में सावधानियां

  1. गर्भावस्था में हल्का फुल्का खाना खाने से शिशु स्वस्थ पैदा होता है।
  2. गर्भावस्था के पांचवे महीने के बाद से 2 संतरे का सेवन ज़रूर करे, इससे बच्चा गोरा और सुंदर होगा।
  3. गर्मियो के मौसम में आम अधिक मात्रा में मिलते है, गर्भवती महिला को इसका सेवन करना चाहिए। क्योकि यह पोटेशियम का एक अच्छा स्त्रोत होता है।
  4. नाश्ते में ओट्स का सेवन करना अच्छा होता है यह फाइबर युक्त होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *