बवासीर के मस्से और दर्द का देसी रामबाण घरेलू इलाज

हमारे शरीर में बवासीर/पाइल्स के 2 प्रकार होते हैं – Types of Piles (Bawasir) in Hindi
पहला बाहर की बवासीर (External Hemorrhoid) और
दूसरी अन्दर की बवासीर (Internal Hemorrhoid)

1. अंदरुनी बवासीर (Internal Hemorrhoid) – शरीर की गुदा के अंदर होने वजह से कई बार रोगी को पता भी नहीं चलता है की वह इस समस्या से पीड़ित हैं। जिसे हम 3 स्टेजेस में बाँट सकते है|

फर्स्ट स्टेज – Bawasir की पहली स्टेज में गुदा के अंदर रक्त नलिकाओं में छोटी सी सूजन आ जाती है इस स्टेज में हमे दर्द महसूस नहीं होता हैं। कभी कभी कब्ज या मलत्याग करते समय अधिक जोर लगाने पर मरीज गुदा भाग से खून आने की शिकायत रहती है।

सेकंड स्टेज – Bawasir की इस स्टेज में सूजन थोड़ी थोड़ी से बढ़ जाती हैं। मलत्याग करते वक़्त जोर लगाने पर खून के साथ अंदरूनी मस्से भी बाहर आ जाते हैं। और मलत्याग करने पर अपने आप अंदर चले जाते हैं।

थर्ड स्टेज – Bawaseer की इस स्टेज में सूजन फर्स्ट और सेकंड स्टेज की तुलना में अधिक होती हैं। इस स्टेज में भी मलत्याग करते समय मल के साथ खून और मस्से बाहर आ जाते है। और मलत्याग करने के बाद यह हाथ से अंदर करने पर ही वापिस अंदर जाते हैं।

फोर्थ स्टेज – इस स्टेज में पीड़ा असहनीय हो जाती है। मलत्याग करते समय मल के साथ खून और मस्से बाहर आ जाते है। और मलत्याग करने के बाद यह हाथ से अंदर धकेलने पर भी जल्द अंदर नहीं जाते हैं।

2. बाहरी बवासीर (External Hemorrhoids) – इसमें गुदा के बाहरी परत पर छोटी-छोटी गाठें पायी जाती हैं। जिसमे कभियो कभी रक्त के जम जाने के कारण असहनीय पीड़ा भी उठानी पड़ती है। ऐसी स्थिति में तुरंत किसी होम्योपैथिक (homeopathic) डॉक्टर के पास जाना चाहिए और डॉक्टर से Bawaseer का इलाज करवाके होम्योपैथिक मेडिसिन (Medicine) का उपयोग  करना  चाहिए। गुदाभाग से लगातार खून आना यह आंत के कैंसर (Cancer) की निशानी भी हो सकती है इसलिए ऐसे समय घरेलु उपचार में समय बर्बाद करने की जगह एक बार डॉक्टर का परामर्श Medicine का सेवन करना चाहिए।

बवासीर के मस्से और दर्द का घरेलू इलाज:

  1. सर्दियों में मूली का नियमित सेवन बवासीर को ठीक कर देता है।
  2. पके केलों को उबाल कर दिन दो बार सेवन जरूर करे। रात को सोते समय केले खाने चाहिए इससे रोगी को बहुत अधिक लाभ मिलता है।
  3. जैतून के तेल को गरम करके सूजन पर लगाएं। इससे जल्दी राहत मिलेगी।
  4. आहार में मांसाहार, अधिक तला हुआ, चाय, मैदे से बनी हुई चीजे, मिर्च मसालेदार, कॉफ़ी, शराब और जंक फ़ूड का सेवन न करे।
  5. 1 गिलास लस्सी में 1 चम्मच नींबू का रस और आधा चम्मच नमक डालकर पीने से भी बवासीर की समस्या का निदान होता है।
  6. हरी सब्जियों में परवल, पपीता, भिंडी, केला का फूल, मूली, गाजर, शलजम, करेला, तुरई खाना चाहिए।
  7. बवासीर के कई दुष्परिणाम होते हैं जिनसे निपटने के लिए जीरा आपकी सहायता करता है। जीरे को भूनकर उनका पाउडर बनाएं। एक चम्मच जीरे में पानी मिलाकर प्रयोग करें।
  8. बवासीर की पीड़ा को दूर करने के लिए रोज़ाना इमली के फूलों से निकाला हुआ रस पियें।
  9. रोज दोपहर एक कटोरी ताजा दही का सेवन करे।
  10. अंगूर, पका बेल, सेब, नाशपाती, किशमिश, तरबूज, आम, अनार, पका पपीता, संतरा, मौसमी फल, छुआरा, मुनक्कात, अंजीर, नारियल, खाना बवासीर में फायदेमंद होता है।
  11. दिनभर में कम से कम 6 से 10 ग्लास पानी जरूर पीना चाहिए। जब आप पर्याप्त मात्रा में पानी पीते है तो आपको कब्ज की शिकायत नहीं होती हैं।
  12. आप सोने से पहले  एक चमच्च ईसबगोल पानी में मिलाकर ले सकते है। जिससे आपको कब्ज नहीं होगी।
  13. पालक, बथुआ, पत्ता गोभी, चौलाई, सोया, काली जीरी के पत्ते का साग खाना चाहिए।
  14. आम के बीज को सुखाएं और उसका पाउडर बनाएं। अब एक पात्र में बराबर मात्रा में ये पाउडर और शहद लें। ये बवासीर ठीक करने के सबसे कारगर उपायों में से एक है।
  15. मेंहदीं (Henna) के पत्तों को पानी के साथ पीसकर मलद्वार पर लगाकर लंगोट बांध ले। इससे मस्से सूख कर गिर जायेंगे।
  16. घर में काम में आने वाली चाय की पत्तियों को पीसकर मलहम बना लें और इसे गर्म करके अपने मस्सों पर लगायें।
  17. सांप की केंचुली को जलाकर उसे सरसों के तेल में मिलायें। इस तेल को गुदा पर लगाने से मस्से कटकर गिर जाते हैं।
  18. तुलसी के पत्ते का रस निकालकर इसे नीम के तेल में मिलाकर प्रतिदिन सुबह- शाम मस्सों पर लगाएं। मस्सों पर इसको लगाने से मस्से जल्द ठीक हो जाते हैं। This is best home remedies for bawaseer.
  19. बवासीर के मस्सों पर करीब एक महीने तक लगातार पपीते का दूध लगाने से मस्से सूख जाते हैं।
  20. Agar aap bawasir ka gharelu ilaj in hindi dundh rahe hai to chukandar aapke liye bhut hi laabhkaari saabit hoga| चुकन्दर खाने व रस पीते रहने से बवासीर के मस्से ख़तम हो जाते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *