चर्म रोग से बचने के रामबाण घरेलू उपाय और नुस्खे

CHARM ROG SE BACHANE KE GHARELU UPAY, AYURVEDIC UPCHAR AUR NUSKHE

चर्म रोग से बचने के उपाय: चर्म रोग अधिकतर गर्मियो मे होता है। इसलिए ज़रूरी है की आपको अपने स्किन को बचाना ज़रूरी है नही तो बहुत से प्रॉब्लम्स हो सकते है। चर्म रोग कई तरह के होते है। जैसे की दाद, खाज, खुजली, छाले, खसरा, फोड़े, फुंसी एट्सेटरा। बहुत से मामलो मे हम इस प्रॉब्लम्स को घरेलू उपचार के ज़रिए ठीक कर सकते है, लेकिन कई मामलो मे एक अच्छे डर्मेटोलॉजिस्ट से सलाह लेना उचित होता है। स्किन डिजीज मे बहुत से लोगो को होम्योपैथीक दवाओ से भी काफ़ी राहत मिलती है। यहा हम आपको बताने जा रहे है कैसे दूर करे इस प्रॉब्लम्स को।

CHARM ROG(चर्म रोग) HONE KE KARAN (skin diseases cause in hindi)

चर्म रोग का फैलना इन कारणों से होता है:

  1. अधिक टाइम तक धूप मे बिताने वाले लोगो को चर्म रोग होने का ख़तरा ज़्यादा होता है।
  2. महिलाओ मे मासिक अनियमितता की प्रॉब्लम हो जाने पर भी उन्हे चर्म रोग होने की ज़्यादा संभावना होते है।
  3. शरीर मे ज़्यादा गैस जमा होने से खुसकी का रोग हो सकता है।
  4. किसी एंटीबायोटिक्स दवा के खाने से साइड एफेक्ट्स होने पर भी स्किन प्रॉब्लम हो सकती है।
  5. नहाने के बाद साबुन मे अधिक मात्रा मे सोडा होने से भी यह रोग हो सकता है।
  6. खुजली का रोग ज़्यादातर शरीर मे खून की खराबी के कारण होता है।
  7. शरीर पर लंबे टाइम तक धूल मिट्टी और पसीना जमे रहने से भी चर्म रोग हो सकता है।
  8. उल्टी, छींक, डकार, फार्ट, पिसाब इन सब रोगो को रोकने से चर्म रोग होने का ख़तरा रहता है।
  9. आहार लेने के तुरंत बाद एक्सर्साइज़ करने से भी चर्म रोग होने की ज़्यादा संभावना रहती है।
  10. गरम और तीखी चीज़े खाने पर फुंसी और फोड़े निकल आते है।

चर्म रोग के लक्षण (CHARM ROG KE LAKSHAN)

दाद-खाज होने पर चाँदी बहुत ज़्यादा सुख जाती है, और उस जगह पर खुजली करने से छोटे-छोटे दाने निकल आते है। नॉर्मली किसी भी तरह के चर्म रोगो मे जलन, खुजली और दर्द होने की फरियाद रहती है। शरीर मे तेज गर्मी होने पर चाँदी पर सफेद या भूरे दाग दिखने लगते है या फोड़े और फुंसी निकल आते है और टाइम पर इसका उपचार ना होने पर पस निकालने लगता है।

Charm Rog Me Kya Khana Chahiye

  1. स्किन रोग होने पर बीड़ी, सिगरेट, शराब, बियर, टोबॅको, कॉफी, गांजा या किसी भी नशीले पदार्थो का सेवन ना करे।
  2. त्वचा रोग हो जाने पर, टाइम पर सोना, टाइम पर उठना, रोज नहाना और धूप की सीधी किरणों के संपर्क से दूर रहना बहुत ज़रूरी है।
  3. स्किन की किसी भी तरह की बीमारी से पीड़ित आदमी को हर रोज रात को सोने से पहले एक गिलास हल्के गुनगुने गरम दूध मे, एक चमच्च हल्दी मिलकर दूध पीना चाहिए।
  4. खराब पाचन तंत्र वाले व्यक्ति को चर्म रोग होने के अधिक संभावना होते है।
  5. भोजन मे आचार, नीमबू, नमक, मिर्च, टमाटर एट्सेटरा चीज़ो का सेवन बिल्कुल बंद कर देना चाहिए।
  6. बाजरे और ज्वर की रोटी बिल्कुल ना खाए। शरीर को क्लीन बनाने का ख्याल रखे।

SKIN ROG KE LIYE AAYURVEDIC GHRELU UPCHAR

  1. नहाते टाइम नीम के पत्तो को पानी के साथ गरम कर के, फिर उस पानी को नहाने के पानी के साथ मिलकर नहाने से चर्म रोग से मुक्ति मिलती है।
  2. रोजाना तिल और मूली खाने से स्किन के भीतर जमा हुआ पानी सूख जाता है और सूजन ख़त्म हो जाती है।
  3. मूली के पत्तो का रस स्किन पर लगाने से किसी भी तरह के त्वचा रोग मे राहत हो जाती है।
  4. नीम की कोपलो को सुबह खाली पेट खाने से भी त्वचा रोग दूर हो जाते है।
  5. स्किन के घाव ठीक करने के लिए नीम के पत्तो का रस निकल कर घाव पर लगाकर उस पर पट्टी बाँध लेने से घाव मिट जाते है।
  6. खाज और खुजली की प्रॉब्लम मे ताज़ा सुबह का गाय का मुत्रा (गौमूत्र ) त्वचा पर लगाने से आराम मिलता है।
  7. जहा भी फोड़े और फुंसी हुए हो, वहाँ पर लहसुन का रस लगाने से फ़ौरन आराम मिल जाता है।
  8. सुखी चाँदी की शिकायत रहती हो तो सरसो के तेल मे हल्दी को मिलकर उसे त्वचा पर हल्की मालिश करणसे से त्वचा का सुखापन दूर हो जाता है।
  9. लहसुन और सूरजमुखी को एक साथ पीसकर पोटली बनाकर गली की गाँठ पर बाँध देने से लाभ मिलता है।
  10. सरसो के तेल मे लहसुन की कुछ कलियो को डालकर उसे गर्म कर के उसे स्किन पर लगाया जाए को खुजली की प्रॉब्लम दूर हो जाती है।
  11. चेहरे के काले दाग और धब्बे दूर करने के लिए हल्दी की गाठो को शुद्ध जल मे घिसकर, उस के लैप को चेहरे पर लगाने से दाग-धब्बे दूर हो जाते है।
  12. मूली मे क्लोरीन और सोडियम तत्त्व होते है, यह दोनो तत्त्व पेट मे माल जमने नहीं देते है, और इस कारण गैस या अपच नहीं होता है।
  13. मूली मे मागरेसिूम की मात्रा भी मौजूद होती है, यह तत्त्व पाचन क्रिया नियमन मे सहायक होता है, जब पेट साफ़ होगा तो चाँदी के रोग होने की नौबत ही नहीं होगी।
  14. हर रोज मूली खाँसे से चहरे पर हुए दाग, धब्बे, झाइया और मुहासे ठीक हो जाते है।
  15. त्वचा रोग मे सेब के रस को लगाने से उसमे राहत मिलती है। रोजाना एक या दो सेब खाने से चर्म रोग दूर हो जाते है। त्वचा का ओलिय पन दूर करने के लिए एक सेब को अच्छी तरह से पीस कर उसका लैप पूरे चेहरे पर लगाकर दस मिनट के बाद चेहरे को हल्के गरम पानी से धो लेने पर आयिली त्वचा की परेशानी दूर हो जाती है।
  16. रोजाना प्याज खाने वाले आदमी को लू (हीट स्ट्रोक) कभी नहीं लगती है।
  17. पोदीने और हल्दी का रस समान मात्रा मे जाय्न करके दाद खाज खुजली वाली जगह पर लगाया जाए तो जल्दी ही राहत मिल जाती है।
  18. गर्म पानी मे पिसे हुए अजवाइन मिला कर, उसका लैप दाद, खाज, खुजली और फुंसी पर लगाने से फ़ौरन आराम मिल जाता है।
  19. नमक मिले गर्म पानी से त्वचा को धोने या सेक करने से हाथ-पैर और एडीओ की दरार दूर होती है और दर्द मे फ़ौरन आराम मिल जाता है।
  20. गरम पानी मे नमक मिलकर नहाने से सर्दी के मौसम मे होने वाले त्वचा के सामने गुड फील होता है और अगर रोग हो गये हो तो इस उसे के करने से रोग ख़त्म हो जाते है।
  21. करेले के फल का रस पीने से शरीर का खून साफ़ होता है। दिन मे सुबह के टाइम बिना कुछ खाए खाली पेट 1 गम। का चौथाई भाग “करेले के फल का रस” पीने से स्किन रोग दूर होते है।
  22. दाद, खाज और खुजली जैसे रोग, दूर करने के लिए त्वचा पर करेले का रस लगाना चाहिए।
  23. रोजाना सुबह एक कप गाजर का रस पीने से हर तरह के स्किन रोग दूर होते है। सर्दियो मे त्वचा सूखने की प्रॉब्लम लोगो को होती है, गाजर मे विटामिन A भरपूर मात्रा मे होता है, इस लिए रोज गाजर खाने से त्वचा का सुखापन दूर होता है।
  24. पालक और गाजर का रस समान मात्रा मे मिलकर उसमे दो चमच्च शहद मिला कर पीने से सभी तरह के चर्म रोग दूर होते है।
  25. गाजर का रस सारे रोगो को दूर करने का बेस्ट फ्रूट है, गाजर खून को भी साफ़ करता है, इस लिए रोज गाजर खाने वाले व्यक्ति को फोड़े फुंसी, मुहासे और अन्या चर्म रोग नहीं होते है।
  26. नीम की छाल, सहजन की छाल, पुरानी खाल, पीपल, हरड़ और सरसो को समान मात्रा मे मिलकर उन्हे उन्हे पीसकर उसका चर्न बना ले। और फिर इस चर्न को गाय के मुत्रा मे मिलकर स्किन से लगाने पर सारे रोग मिट जाते है।
  27. पीपल की छाल का चूर्ण लगाने पर मवाद निकालने वाला फोड़ा ठीक हो जाता है। 4 से 5 पीपल की कोपलो को रोज सुबह मे खाँसे से अक्जिमा रोग दूर हो जात आई। (इसे आप लगातार 7 दिन तक करे)।

Tags: Skin Problems in Hindi, त्‍वचा (Skin) की समस्‍याएं और उसने बचने के उपाय, टिप्स और नुस्खे, home remedies for skin disease in Hindi, Skin infection treatment in Hindi for men and women, चर्म रोग से बचने के घरेलू नुस्खे उपाय और आयुर्वेदिक उपचार, skin problem solution naturally in Hindi,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *