गर्भावस्था के महीने – Pregnancy Month by Month in Hindi

Pregnancy in Hindi Month by Month: माँ बनना हर महिला का सपना होता है। मातृत्व प्राप्त करना नारी के लिए सर्वोत्तम उपलब्धि होती है। यदि आप भी नयी मम्मी बनने वाली है तो इस समय हर कोई आपका ख़याल रखेगा लेकिन उसके साथ ज़रूरी है की आप भी आपका ख़याल रखे। क्यूकी ऐसे समय में बच्चे और खुद की देखभाल करना बहुत आवश्यक होता है।

माँ बनना जितना ख़ुशी का मौका है उतनी ही ज़िम्मेदारिया भी साथ में लेकर आता है। इसलिए 9 महीने तक गर्भ की देखभाल करनी होती है। जिसे 9 महीने चिकित्सा कहते है।

यदि आप गर्भावस्था के दिनों में आपका और होने वाले बच्चे का अच्छे से ख़याल नही रखते है या लापरवाही बरतती है तो यह आप दोनो के लिए हानिकारक हो सकता है। इसलिए यदि आप चाहती है की आपका बच्चा स्वस्थ हो तो अपना ख़याल रखे और इसके लिए पोषण युक्त आहार ले। महिला का आहार ऐसा होना चाहिए की जो गर्भ में पल रहे शिशु के पोषण को पूरा कर सके।

Pregnancy in Hindi Month by Month

जैसा की आप जानते है जैसे जैसे ग्रभावती महिला के गर्भावस्था के दिन बढ़ते जाते है उनमे कई तरह के परिवर्तन देखने को मिलते है। इसलिए हर महीने के अनुसार अलग अलग सावधानिया और हिदायत प्रेग्नेंट महिला को बरतनी चाहिए। जिससे की आपका बच्चा हष्ट पुष्ट पैदा हो।

तो आइये पढ़ते है कुछ Pregnancy Month by Month Baby Growth in Hindi

  1. गर्भवती महिला का पहला (1st) महीना
  2. गर्भवती महिला का दूसरा (2nd) महीना
  3. गर्भवती महिला का तीसरा (3rd) महीना
  4. प्रेगनेंसी का चौथा (4th) महीना
  5. प्रेगनेंसी का पांचवा (5th) Month
  6. प्रेगनेंसी का छठा (6th) Month
  7. प्रेग्नेंट लेडी का सातवा (7th) Month
  8. प्रेग्नेंट लेडी का आंठवा (8th) महीना
  9. गर्भवस्था का नौवा (9th) Month

Pregnancy ke First Month in Hindi – गर्भवती महिला का पहला महीना

हर गर्भवती महिला के लिए पहला महीना (1st Month) बहुत ही खास होता है। इसलिए इसमे कुछ खास सावधानी बरतने की भी ज़रूरत होती है। इस महीने में आपको आपके आहार का पूरा ध्यान रखना चाहिए आपके आहार में प्रोटीन (Protein), कॅल्षियम (Calcium) और आइरन (Iron) को अधिक मात्रा शामिल करना चाहिए।

Pregnancy ke First Month में बच्चे के बढ़ने में माँ के खून का सबसे बड़ा योगदान होता है। इसलिए आपके आहार में आइरन का सम्पूर्ण मात्रा होना आवश्यक है। इसलिए ज़्यादा से ज़्यादा पालक का सेवन करे।

अंडे का सेवन करे क्योकि इसमे सबसे अधिक पोशक तत्व होते है। इससे आप पूरे 9 महीने तक खा सकती है। प्रेगनेंसी के पहले महीने में मॉर्निंग सिकनेस के शिकार हो सकते है। Pregnancy ke 1st month में हार्मोनल चेंज के कारण शरीर में थकान आने लगती है।

1st Month Pregnancy के लिए कुछ ख़ास टिप्स (Tips)
किसी भी तरह के ज्यादा वजन को उठाने से बचे।
पपीते का सेवन ना करे इससे गर्भपात हो सकता है।
यदि पानी पीते पीते उल्टी आ जाए तो घबराए नही। पानी पीना बंद ना करे। मतली आना प्रेगनेंसी के सिम्टम्स में से एक है।

गर्भवती महिला का दूसरा महीना (Pregnancy in Hindi for Second Month)

इस अवस्था में बच्चे के हृदय का विकास होता है इसलिए इसमे अधिक सावधानी बरतने की आवश्यकता होती है। दूसरे महीने (2nd Month) में भ्रूण के अंगो का विकास होना शुरू हो जाता है। इसलिए कैल्शियम और प्रोटीन से भरपूर आहार का सेवन करना चाहिए।

अल्ट्रा साउंड के माध्यम से बच्चे के सर तथा पैर की स्थिति का पता लगाया जा सकता है। चेहरे का आकर बनने लगता है। इस समय कहा जाता है की गर्भवती महिला जिसके बारे में सबसे ज़्यादा सोचती है।

2nd Month के लिए कुछ ख़ास टिप्स

यदि आप धूम्रपान या शराब का सेवन करते है तो उससे छोड़ने का समय आ गया है।
कैफीन पदार्थो का सेवन ना करे।

गर्भवती महिला का तीसरा महीना (Pregnancy in Hindi for Third Month Baby Growth)

Pregnancy ke First Month in Hindi

प्रेगनेंसी के इस महीने में बच्चे की हड्डिया, कान और बाहरी अंगो का विकास होने लगता है। यही वो समय है जब आपके शिशु के सर का भाग सबसे बड़ा होता है।

इस महीने में बच्चा 3 इंच तक का हो जाता है, जिससे गर्भ ठहरने के लक्षण नज़र आने लगते है।

3rd Month के लिए कुछ ख़ास टिप्स

गर्भावस्था के तीसरे महीने में तनाव सबसे ज़्यादा रहता है। जिससे शरीर में कई तरह की दिक्कते आती है क्योकि पेट का निचला हिस्सा बच्चे के मूव्मेंट के अनुसार बनता है। इस महीने में गर्भवती महिला ज्यादा काम करने से बचे। और गर्भावस्था में अपनी अच्छे से देखभाल करे।

गर्भवस्था का चौथा महीना (Fourth Month Pregnancy Hindi)

                                                                              4th Month Baby Growth

गर्भावस्था के इस महीने में बच्चे के हॉर्मोन्स का निर्माण होता है और शिशु से आम्नियोटिक लिक़विड निकलता है।
इस दौरान बच्चे की लंबाई और वजन में वृद्धि होती है। गर्भावस्था के इस महीने में माँ का पेट बड़ा दिखाई देने लगता है। जिससे आपके गर्भाशय में परिवर्तन दिखाई देने लगता है।

4th Month के लिए कुछ ख़ास टिप्स

ज़्यादा तंग कपड़े जैसे जीन्स वगेरह पहनने से परहेज करे, हल्के और ढीले कपड़े पहने। क्यूकी इस समय मांसपेशिया फैलना शुरू हो जाती है।

Pregnancy in Hindi 5th month

Fifth Month Pregnancy in Hindi

5th Month Pregnancy in Hindi

गर्भवती महिला के पांचवे महीने में हाथो तथा पैरो की उंगलियो का विकास हो जाता है। शिशु कुछ समय गतिशील और कुछ समय शांत रहता है। उसकी त्वचा पर झुर्रिया और रंग लाल होने लगता है। तथा त्वचा में वसा की मात्रा ज़्यादा हो जाती है।

5th Month pregnancy के लिए कुछ ख़ास टिप्स

पहले की तुलना मई आपको भूख ज़्यादा लगेगी तो जंक फुड का सेवन करने से बचे।
शराब, कॉफी जैसे हानिकारक पदार्थो का सेवन ना करे इससे बच्चे को नुकसान पहुचता है।

गर्भवती महिला का छठा महीना (Pregnancy in Hindi for 6th Month Baby Growth)

इस शिशु के शरीर में ब्राउन वसा बनना शुरू हो जाती है। जिससे शिशु के शरीर का ताप नियंत्रित रहता है।
आँखो का विकास सम्पूर्ण तरीके से हो जाता है। और पलके खुली और बंद हो सकती है।
शिशु का रोना, लात मारना और हिचकी ले सकता है।

कुछ शिशु छठे महीने में हो जाते है जिन्हे प्रिमेच्यूर बेबी कहा जाता है। इसलिए 6th month प्रेग्नेंट को अपना अच्छे से ख़याल रखना चाहिए।

6th Month के लिए कुछ ख़ास टिप्स (pregnancy month by month in hindi)

अपने मन से योगा ना करे। यदि योगा करना चाहती है तो चिकित्सक और योग शिक्षक की सलाह अवश्य ले।

Pregnancy Month by Month Baby Growth in Hindi

Pregnancy in 7th Month in Hindi

                                                                                   7th Month Baby Growth

गर्भावस्था के इस दौरान आपके पेट का विकास जल्दी जल्दी होता है। तथा पेट के आकार में भी परिवर्तन होता है।
गर्भावस्था के इसी महीने में शिशु पेट में अपने अंघूटे को चूसता है।
इस महीने में आप शिशु के द्वारा दी गई लात को महसूस कर सकते है। और गर्भवती के पेट पर कान रखने से बच्चे की धड़कने भी सुनाई देती है।

7th Month baby growth के लिए कुछ ख़ास टिप्स

गर्भवास्था के समय में भूलकर भी हाइ हील (High Heel) ना पहने इससे आपको कमर में दर्द होगा और आप गिर भी सकती है जिससे आपके बच्चे को चौट भी लग सकती है।

Pregnancy in Hindi for 8th month

8th Month Baby Growth

Eight Month Baby Growth

प्रेगनेंसी के आठवे महीने में शिशु आँखो को पूरी तरह खोलने लगता है। साथ ही जागने और सोने की आदत भी उसमे पैदा हो जाती है।
बच्चे का वजन 2 से 3 क्ग तक होता है। और उसकी लंबाई 41cm से 45cm की होती है।
गर्भवती माँ बच्चे की हलचल को आसानी से महसूस कर सकती है।
इस समय आपको थकान तथा रात में अच्छे से नींद नही आती है।
आप पहले की तुलना में और ज़्यादा असहज महसूस करते है। इससे छुटकारा पाने के लिए योगा का सहारा ले सकते है।

8 Month pregnancy के लिए कुछ ख़ास टिप्स

आपको ज़्यादा देर तक खड़े नही रहना चाहिए क्योंकि बच्चा आपके पेट में रहता है जिससे आपके पेट पर ज़ोर पड़ता है। हो सकता है आपकी कमर भी दुखने लगे।
अपने शरीर की सुने जैसे यदि आपको भूख लगी है तो खाना खाए थकान हो रही है तो आराम करे।

Pregnancy ke 9 month in hindi

                                                                                  9 month baby growth

गर्भवती महिलाओ के लिए यही वो समय होता है जिसका वो इतने समय से इंतज़ार कर रही थी। इस महीने में आप थोड़ी डरी हुई होती है इसके साथ ही बहुत ज़्यादा खुश भी रहती है क्यूकी आपके शिशु का बाहर आने का याने डिलेवरी का समय रहता है।
बच्चे की आँखे कबूतर रंग की होती है जो उसके पैदा होने के बाद बदल जाती है।
शिशु का सर नीचे और पैर उपर की तरफ होते है। तथा बच्चा शांत रहता है।
पेट काफ़ी बाहर निकल आता है।

Pregnancy Month by Month in Hindi

9th Month pregnancy के लिए कुछ ख़ास टिप्स

गरम पानी से स्टीम बाथ ना ले क्योंकि इससे शरीर के भारी और अंदर के तापमान में परिवर्तन आ जाता है। जो की माँ और बच्चे दोनो के लिए अच्छा नही है।

Ye bhi padhe: 9 Month Pregnancy Tips in Hindi

pregnancy month by month in hindi: सातवे, आठवे, और नॉवे महीने में भारी वजन बिल्कुल ना उठाए। शुरूवाती दिनों से ही इस बात का ध्यान रखे।

ऊपर आपने एक शिशु के विकास को यानि pregnancy में month by month baby growth को जाना कि पहले महीने से लेकर नोवे महीने तक आपको क्या करना चाहिए और क्या नही। प्रेगनेंसी का आखरी का महीना बहुत ही सतर्क रहने वाला होता है। इसलिए आपको कुछ बातो की जानकारी होना आवश्यक है, आइए जाने वो क्या है:-

  1. यदि आपको होने वाला हल्का दर्द, तेज दर्द मई बदल जाए तो बिना देर किये चिकित्सक से संपर्क करे।
  2. यदि आपको योनि से द्रव निकलते हुए दिख रहा है तो भी तुरंत चिकित्सक से संपर्क करे।
  3. आपको डॉक्टर ने जो भी डेट दे रखी है, उस दिन डॉक्टर के पास जाए। चाहे आपको उस दिन दर्द हो या ना हो।
  4. यदि आपको High BP की समस्या हो रही है तो ऐसे स्थिति में भी तुरंत डॉक्टर से परामर्श ले।
  5. यदि आप वर्किंग वीमेन है तो आप ऑफिस से छुट्टियां ले ले, और हो सके तो ऑफीस का सारा टेंशन घर से बाहर ही रखे और आराम करे, नवे महीने में तो गर्भवती महिला को ज़रा सा भी टेंशन नही लेना चाहिए।

तो इसी के साथ हम ये आशा करते है की दोस्तों की आपको हमारा pregnancy month by month baby growth in Hindi में लिखा ये लेख “pregnancy in hindi month by month” जरूर पसंद आया होगा।

pregnancy month by month baby growth से जुड़े किसी भी प्रकार के सवालों और जवाबो के लिए नीचे कमेंट बॉक्स में लिख भेजे।

Post Tags: pregnancy month by month hindi, pregnancy month by month baby growth, Pregnancy ke 9 Month, Pregnancy ke First Month in Hindi, Pregnancy in Hindi 5th Month, Pregnancy in 7th Month in Hindi, 8 Month pregnancy, pregnancy in hindi month by month, pregnancy month by month in hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *