गर्भावस्था के सप्ताह – Pregnancy in Hindi Week by Week

Pregnancy Week by Week in Hindi (गर्भावस्था के सप्ताह): गर्भावस्था की घडी की सुइया आपके अंतिम पीरियड के पहले दिन से चलना शुरू कर देती है। प्रेगनेंसी के दौरान एक मां को कई प्रकार की जिम्मेदारियां को उठाना पड़ता हैं। ऐसे में गर्भवती महिला और शिशु के स्वास्थ्य की देखभाल करना बहुत जरूरी होता है।

गर्भावस्था के हफ्ते, गर्भावस्था के विभिन्न हफ्तों में की जाने वाली देखभाल, गर्भावस्था कैलेंडर, विभिन्न सप्ताह में कैसे करें मां और शिशु की देखभाल के बारे में ज्यादा जानकारी के लिए नीचे पढ़िए।

ज्यादातर महिलाओं के लिए, गर्भावस्था के पहले 12 सप्ताह सबसे अधिक खपत वाले होते है पता हे नहीं लगता की समय बीत जाता है सब कुछ नया, रोमांचक सा लगता है।

गर्भावस्था के सप्ताहों के बारे में लिखे गए इस लेख pregnancy week by week hindi me में आप पढ़ेंगे:

Pregnancy Week by Week in Hindi

1st First Week of Pregnancy in Hindi

गर्भावस्था के सप्ताह

आप अभी प्रेग्नेंट नहीं है। वैसे तो प्रेगनेंसी 40 सप्ताह के लिए मानी जाती है पर वास्तव में आप केवल 38 वीक के लिए बच्चे को अपने गर्भ में रखती है। प्रेगनेंसी के पहले हफ्ते में गर्भवती महिला को अपनी प्रेगनेंसी का पता नहीं चल पाता है। पहले सप्ताह में भ्रूण बनने की प्रक्रिया की शुरुआत होती है।

पहले सप्ताह (First Week) में महिला के शरीर में बहुत से बदलाव चल रहें होंते हैं। स्वस्थ महिला को हर महीने माहवारी निश्चित समय या उसके आसपास होती है।

गर्भधारण के पहले सप्ताह (1st Week of Pregnancy) के लक्षणों में जी मचलना, उल्टी होना, बार-बार पेशाब जाना, आदि शामिल है। पहले सप्ताह में एक गर्भवती महिला के मुँह का स्वाद बहुत कड़वा और कसैला सा हो जाता है। उसे किसी भी खायी गयी चीज के स्वाद का पता नहीं चलता है, सिर्फ अधिक खट्टी चीजों के स्वाद का ही पता चल पाता है।

एक गर्भवती महिला को गर्भधारण के तुरंत बाद ही अपने खान-पान में तुरंत बदलाव कर लेना चाहिए। बहुत दिनों से फ्रिज में रखे भोजन का सेवन करने से बचे।

2nd Second Week of Pregnancy Hindi


गर्भधारण यानी के प्रेगनेंसी के पहले सप्ताह में जो बदलाव शुरू होते है वे बदलाव दूसरे हफ्ते (2nd Week) में भी मौजूद रहते हैं। गर्भवती महिला इस समय थकान, बुखार, हाथ-पैरों में सूजन और सिर दर्द आदि की शिकायतों से घिरी हुई रहती है।

आप अभी ओवुलेशन की प्रक्रिया से गुजर रही है। ये सही समय है प्रेग्नेंट होने का, आप ओवुलेशन प्रक्रिया के दो से तीन दिन पहले सेक्स करके अपनी प्रेग्नेंट होने के अवसर को बढ़ सकती है। प्रेगनेंसी के दूसरे सप्ताह (2nd Week of Pregnancy) में भ्रूण के जीवन की शुरूआत हो जाती है। इस समय कई बार पेट में या पैरों पर ऐंठन होने लगती है।

अपनी प्रेगनेंसी को कन्फर्म करने लिए आप चिकितस्क का सहारा ले सकती हैं या फिर किसी मेडिकल स्टोर से होम प्रेग्नेंसी किट खरीद सकती हैं।

गर्भावस्था के सप्ताह

3rd Third Week of Pregnancy

Pregnancy in hindi week by week

प्रेगनेंसी के तीसरे सप्ताह में महिला को दूसरे हफ्ते के मुकाबले अब ज्यादा बदलाव दिखाई देने लगते हैं। अब आंतरिक बदलाव के साथ साथ बहरी बदलाव भी होने लगते है। इन बदलावों और लक्षणों को कई बार गर्भवती महिलाएं पहचान नहीं पातीं है।

आप प्रेग्नेंट हो सकती है पर अभी कोई लक्षण नहीं नजर आते है। दूसरे सप्ताह में ओवरी में जो अंडे बने होते है वे तीसरे हफ्ते में पूरी तरह बाहर आ जाते हैं। तीसरे हफ्ते में गर्भवती महिला के गर्भ से अंडा ओवरी से निकल कर फेलोपियन ट्यूब्स से होते हुए यूटरेस मे चला जाता है। एक भूर्ण जो की शु्क्राणुओं और अंडाणुओं के मिलने से बनता है।

एक गर्भवती महिला को इस समय गर्भ में पल रहे शिशु का ख्याल रखना जरूरी होता है। इसलिए किसी भी तरह के खानपान या किसी भी चीज के लिए पहले डॉक्टर से मशविरा अवश्य करे।

4th Fourth Week of Pregnancy Hindi


माँ बनने वाली हर महिला का यह सपना होता है कि उसका होने वाला बच्चा पूरी तरह स्वस्थ हो। इसके लिए प्रेगनेंसी के हर सप्ताह के दौरान अपनी और शिशु की अच्छी देखभाल होना बहुत जरूरी है, क्योकि भ्रूण के विकास के लिए चौथा हफ्ता (4th Week of Pregnancy) बहुत महत्वपूर्ण होता है।

आप गर्भवती हो चुकी है, आपको थोड़ा काम करने पर ही थकान महसूस होने लगती है आप में चिड़चिड़ा पन आने लगता है। चौथे सप्ताह में भ्रूण का आकार कबूतर के अंडे का आकार का होता है। चौथे हफ्ते में फर्टीलाइज्ड अंडा यूट्रस तक पहुंच जाता है और करीब 72 घंटे के बाद यह भूर्ण यूट्रेस लिनिंग मे अपने लिए जगह बना लेता है। यूट्रेस लिनिंग की रक्त कोशिकाएं के अंडे को स्पर्श करने पर अंडे का विकास शुरू हो जाता है।

इस समय गर्भवती महिला को मीटऔर मांस से बने भोजन से दूर रहना चाहिए। प्रेग्नेंट महिला को अपने आस-पास की साफ-सफाई का विशेष रूप से ध्यान रखना चाहिए।

5th Five Week of Pregnancy


गर्भावस्था के 5 वे सप्ताह में भूर्ण एक रेत के कण के बराबर का होता है, शिशु का ह्रदय रक्त संचार की प्रक्रिया शुरू कर देता है, इसके साथ ही अन्य अंगो का भी विकास होने लगता है।

अब आप गर्भावस्था की पहली तिमाही में औपचारिक रुप से आ चुकी हैं, यह आपकी प्रेगनेंसी की बस शुरुआत है। अब आपको अपने खाने पीने के तौर तरीके बदलने की जरुरत है अब आप अपने होंने वाले बच्चे के स्वास्थ्य से संबंधित जरुरी आहारों का ही सेवन करना शुरू कर दे। और अगर आप आप धूम्रपान या शराब आदि का सेवन करती हैं तो इसे बंद कर दें।

क्योकि अब से आपके द्वारा ग्रहण किया गया आहार बच्चे के स्वास्थ्य को प्रभावित करता है। बच्चे के सम्पूर्ण विकास के लिए विटामिन्स और नुट्रिशन का सेवन करे। फोलिक एसिड के लिए संतरे और इसके रस का सेवन करें, जो की बच्चे के मस्तिष्क के विकास में मदद करता है।

समय समय पर अपने डॉक्टर से खाने-पीने, और दवाइयों के बारे में पूरी जानकारी लेते रहना चाहिए।

6th Six Week of Pregnancy


गर्भवस्था का छठा सप्ताह और भी ज्यादा वास्तविक लगने लगता है, इस समय आपको गर्भपात न हो इसकी चिंता ज्यादा होती है।

अब आप गर्भावस्था की पहली तिमाही में औपचारिक रुप से आ चुकी हैं, यह आपकी प्रेगनेंसी की बस शुरुआत है। अब आपको अपने खाने पीने के तौर तरीके बदलने की जरुरत है अब आप अपने होंने वाले बच्चे के स्वास्थ्य से संबंधित जरुरी आहारों का ही सेवन करना शुरू कर दे। और अगर आप आप धूम्रपान या शराब आदि का सेवन करती हैं तो इसे बंद कर दें।

क्योकि अब से आपके द्वारा ग्रहण किया गया आहार बच्चे के स्वास्थ्य को प्रभावित करता है। बच्चे के सम्पूर्ण विकास के लिए विटामिन्स और नुट्रिशन का सेवन करे। फोलिक एसिड के लिए संतरे और इसके रस का सेवन करें, जो की बच्चे के मस्तिष्क के विकास में मदद करता है।

7th Seven Week of Pregnancy in Hindi

गर्भावस्था का सातवां सप्ताह यानी आपको प्रेगनेंसी का दूसरा महीना चल रहा है। इस दौरान एक गर्भवती महिला को अपने शारीरिक स्वरूप में कोई परिवर्तन नजर नहीं आते है। ये समय भ्रूण के विकास का होता है।

भ्रूण के तेजी से विकास के लिए आप पौष्टिक आहारों और प्रसव के पहले लिए जाने वाले विटामिन का सेवन करे। एक स्वस्थ भूर्ण की लम्बाई गर्भावस्था के सातवे महीने में 0.44 से 0.52 इंच तक की होती है। प्रेगनेंसी के इस हफ्ते में बच्चे में बाल, स्तन पुटिका के साथ पलक व जीभ बनना शुरू हो जाते है।

इस समय में प्रेगनेंसी हार्मोन में वृद्धि के कारण आप मॉर्निंग सिकनेस से परेशान रह सकती है। कॉफी या कैफीनयुक्त पेय पदार्थो से दूर रहे और तली हुई चीजों जैसे नमकीन और आलू के चिप्स आदि का सेवन न करे।

8th Eight Week of Pregnancy

pregnancy week by week hindi me

अब आप प्रेगनेंसी के दूसरे महीने के अंत में पहुंच चुकी हैं। आपने पहली तिमाही का ज्यादातर समय पार कर दिया हैं। इस समय आपका वजन गर्भ में पल रहे शिशु के वज़न के कारण हल्का सा बढ़ा हुआ होता है, लेकिन आपको देखकर ये पता नहीं लगाया जा सकता की आप गर्भवती है।

प्रेगनेंसी के 8 वे सप्ताह में आप डॉक्टर की मदद से अल्ट्रासाउंड के जरिये बच्चे की दिल की धड़कन सुन सकते है। जब एक बार आप गर्भ में अपने बच्चे को देख और सुन लेती है तो आपके गर्भपात का खतरा २ प्रतिशत काम हो जाता है। इसी दौरान आपको बच्चे के पैदा होने की एक तारीख दे दी जाती है।

दिन के समय भारी भोजन खाने और रात में हल्का भोजन खाने की आदत डाले।

9th Nine Week of Pregnancy in Hindi


प्रेगनेंसी के नौवें हफ्ते में, आप सोनोग्राफी से गर्भ में पल रहे शिशु की झलक को आराम से देख सकते है। गर्भावस्था के नौवें सप्ताह में एक गर्भवती महिला को अपच और सीने में जलन की तकलीफ महसूस हो सकती है।

प्रेगनेंसी के इस समय में गर्भ के आकार में हो रहे बदलाव के कारण आपको पीठ के बल सोने में परेशानी होगी। ऐसे में आप अपनी और करवट लेकर सोने की कोशिश करे। इस समय आपको अधिक भूख लगनी शुरू हो सकती है। आपके मूत्राशय पर गर्भ के बढ़ते दबाव के कारण मूत्र का रिसाव हो सकता है।

10 Ten Week of Pregnancy


अब आप अपनी प्रेगनेंसी की पहली तिमाही पूरी करने वाली हैं। इसी के साथ आपका प्रेगनेंसी का नाजुक समय भी अब पूरा हो होने चला है। गर्भावस्था के दसवे सप्ताह में भूर्ण का आकार पूरी तरह बन चूका होता है, गर्भ में पल रहे स्वस्थ भ्रूण का आकार 1.25 इंच से 1.68 इंच होता है। इस दौरान भी शिशु का वज़न लगातार बढ़ता रहता है।

प्रेगनेंसी के 10वे महीने (10th Month of Pregnancy) में स्तनों के आकार में वृद्धि के कारण स्तनों में नरमी और सूजन आ सकती है। प्रेगनेंसी के दुष्प्रभाव से बचने या उनकी रोकथाम का यह सही समय होता है। एक स्वस्थ बच्चा होने की चिंता इस समय सबसे ज्यादा होती है।

इस समय थकावट होने पर जबरदस्ती काम करने की कोशिश न करे। शरीर को पूरा आराम करने का मौका दे।

Pregnancy Week by Week Hindi me

गर्भावस्था के 11 से 20 सप्ताह में शायद आपको गर्भ के भीतर शिशु की थोड़ी हलचल महसूस होनी शुरु होगी। अगर, यह आपकी ये आपका पहला प्रसव है, तो आपको यह समझने में समय लगेगा। जल्द ही आप गर्भ में पल रहे बच्चे की तेज थपकी या हाथ-पांवों की हलचल की आदि हो जाएंगी।

गर्भावस्था का ग्यारहवां हफ्ता


गर्भावस्था के इस सप्ताह में भूर्ण के सभी अंग कार्य करना शुरू कर देते है।

गर्भावस्था का बारहवां हफ्ता


प्रेगनेंसी के 12 वे सप्ताह में आपका गर्भ बाहर आने लगता है। इसका आकार आपके गर्भावस्था के अंतिम दिनों 1000 गुना अधिक होगा।

गर्भावस्था का तेरहवां हफ्ता

pregnancy week by week in hindi language

अब जब आपने अपना पहली तिमाही पूरी कर ली है, अब आप दो जनो के लिए खाना शुरू कर सकती है। आप इस दौरान प्रेगनेंसी के अगले 14 महीनो के लिए 12 पौंड वजन बढ़ाने की योजना बना सकती है।

गर्भावस्था का चौदहवां हफ्ता

प्रेगनेंसी के चौदहवें हफ्ते तक आपने अपने परिवार को खुश गर्भावस्था की खुश खबरि दे दी होगी। प्रेगनेंसी के इस सप्ताह में आपको शरीर में होने वाले सारे बदलावो के साथ समायोजन करना चाहिए। अन्य सप्ताह की तरह ही इस हफ्ते में भी बच्चे का बढ़ना जारी है, और आप चौथे महिने (Fourth Month) के चेकअप के लिए तैयार है।

अब से प्रत्येक महीने डॉक्टर आपके ब्लड प्रेशर, मूत्र और आपके वजन की जांच करेगा। गर्भाशय के ऊपर की तरफ वज़न बढ़ने से आपकी कमर बढ़ सकती है, जिसके कारण पेट अधिक बाहर दिखाई देने लगता है।

आपके गर्भ में पल रहा शिशु अब अपनी उंगलियों को मोड़ कर अपनी मुट्ठी बांध सकता है। गर्भावस्था के चौदहवें सप्ताह में शिशु की लंबाई 85 मिमी के करीब और वजन 110 ग्राम होता है।

गर्भावस्था का पन्द्रहवां सप्ताह

प्रेगनेंसी के 15वें हफ्ते में शिशु का तेजी से विकास होने लगता है, इसके कारण दर्द महसूस होने लगता है, और पेट बढ़ना भी शुरू हो जाता है। गर्भावस्था के पन्द्रहवें सप्ताह में एक गर्भवती महिला का वजन 5 पौंड तक बढ़ सकता है।

इस दौरान प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर होने से संक्रमण का खतरा रहता है। इस समय ढीले-ढाले कपड़े पहनें और हल्के गरम पानी से स्नान करे। अपने आहारों में पर्याप्त मात्रा में विटामिन व प्रोटीन को शामिल करना न भूले।

प्रेगनेंसी के 15वें हफ्ते में शिशु का तेजी से विकास होने लगता है, इसके कारण दर्द महसूस होने लगता है, और पेट बढ़ना भी शुरू हो जाता है। गर्भावस्था के दौरान फिटनेस के लिए बहुत सावधानी बरतनी चाहिए।

Pregnancy Week by Week in Hindi Language

गर्भावस्था का सोलहवां सप्ताह

प्रेगनेंसी के 16वे हफ्ते में आप शिशु की हलचल को आसानी से महसूस कर सकती है, गर्भ के अंदर होने वाली बच्चे द्वारा की गयी हलचलों को स्पन्दन कहते हैं। आपके गर्भ में पल रहे बच्चे की विकास की गति का पता लगाने के लिए चिकित्सक एएफपी, ट्रिपल परीक्षण या एमनिओसेनटेसिस जैसी जांच करवाने की सलाह दे सकते हैं।

गर्भावस्था के सोलहवें सप्ताह में एक स्वस्थ शिशु कि लंबाई 17.5 सेंटी मीटर और वजन 160 ग्राम तक हो सकती है। तनाव से दूर रहे और किसी भी प्रकार के डर और चिंता की बात होने पर डॉक्टर से तुरंत संपर्क करे।

गर्भावस्था का सत्रहवां सप्ताह

गर्भावस्था के सत्रहवें सप्ताह में लंबे समय तक टिक कर बैठे रहना हानिकारक हो सकता है, एक जगह टिक कर बैठे रहने से आपके पेट ऐंठन हो सकती है। इस हफ्ते में शिशु की आँखों का विकास पूरी तरह हो जाता है। अगर आपको सोने में तकलीफ हो रही है तो आप सोते समय घुटनो में तकिया लगाकर आराम करे।

प्रेगनेंसी के इस हफ्ते में शिशु की लम्बाई छ से साढ़े छह इंच और वजन चार औंस तक हो सकता है। गर्भ में हो रहे बच्चे के विकास के कारण गर्भनाल मोटी और लंबी होने लगती है। गर्भावस्था के इस सप्ताह में गर्भवती महिला के कई परीक्षण किए जाते हैं। यदि इन परीक्षणों से संबंधित आपके मन में कोई भी सवाल हो, तो आप डॉक्टर या जीवन साथी से जरूर बात करें।

प्रेगनेंसी का अठारवां सप्ताह

अगर आप प्रेगनेंसी के उन्नीसवें हफ्ते में चल रही है तो आप दूसरी तिमाही में हैं। इस स्तर पर आपके शरीर के साथ ही गर्भ में पल रहे शिशु में भी परिवर्तन होने शुरू हो जाते है। कई लोग गर्भावस्था के इस हफ्ते को गर्भावस्था का मध्य भी कहते हैं।

गुजरते समय के साथ शिशु का गर्भ में लात मारना और हलचल करना अधिक महसूस होने लगता है। शिशु के गुर्दे अब मूत्र उत्पादन करना शुरू कर देते है, और बच्चे के सिर पर कुछ बाल आने लगते है।

इस समय आयरन का सेवन करना लाभकारी रहता है, क्योकि गर्भावस्था के इस सप्ताह में दिल की धड़कने तेज होना, बेहोशी और चक्कर आना आम समस्या होती है।

प्रेगनेंसी का उन्नीसवां सप्ताह

प्रेगनेंसी की दूसरी तिमाही का समय आसान और सुखद होता है। आमतौर पर पहली तिमाही में गर्भवती महिलाओं को मॉर्निंग सिकनेस और थकान की समस्या अधिक होती है। बच्चे के यौंन अंगो का विकास पूरी तरह हो चूका होता है, जिसे की आसानी से पहचाना जा सकता है, लेकिन लिंग निर्धारण करना कानूनन अपराध है।

गर्भवस्था के बीसवें सप्ताह में एक स्वस्थ शिशु का वजन 11 औंस और लंबाई छह से साढ़े छह इंच हो सकती है। इस हफ्ते में आपके वज़न में आठ से दस पौंड तक की वृद्धि हो सकती है।

प्रेगनेंसी के इस हफ्ते में अगर आपको खिंचाव के निशान दिखाई दे रहे है तो कोकोआ मक्खन का उपयोग कर सकते है। बच्चे का आकार बढ़ने के साथ आपको कब्ज, अपच और त्वचा संबंधी परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।

प्रेगनेंसी का बीसवां हफ्ता

प्रेगनेंसी की दूसरी तिमाही का समय आसान और सुखद होता है। आमतौर पर पहली तिमाही में गर्भवती को महिलाओं को मॉनिंग सिकनेस या थकान की समस्या रहती है। गर्भवस्था इस बीसवे सप्ताह में यौंन अंगो का विकास पूरी तरह विकास हो चुका होता है, जिन्हे की आसानी से पहचाना जा सकता है।

गर्भावस्था के बीसवे हफ्ते में स्वस्थ शिशु का वजन 11 औंस और लंबाई छह से साढ़े छह इंच तक हो सकती है। इस हफ्ते में आपका वजन आठ से 10 पाउंड तक बढ़ना चाहिए। हाइड्रेटिड रहे और प्रत्येक दिन खूब सारे तरल पदार्थों का सेवन करें। कैफीन युक्त पेय पदार्थो से दूर रहना चाहिए।

Pregnancy Week by Week Hindi me Tips

भोजन करने का नियम बनाये
pregnancy week by week in hindi – आप जैसा खाते हैं वैसे ही होते हैं, तो यह सच है कि गर्भावस्था के दौरान आपके द्वारा किये जाने वाले आहार आपके नवजात शिशु के स्वास्थ्य को प्रभावित करता है। इसीलिए अगले ९ महीनो में जो आप आहार करते है वही आपके शिशु के विकास को प्रभावित करता है।

सही समय है सोचने का
Pregnancy in hindi week by week – प्रेगनेंसी का पहला सप्ताह ही एक इस समय है जिसमे आप अपने पूरे नो महीनो का खाका तैयार कर सकते है। आपको कैसे अपना और अपने बच्चे बच्चो का ख्याल रखना है प्रेगनेंसी के समय और प्रेगनेंसी के बाद। आप इस समय में हेल्दी प्रेगनेंसी के लिए कम्पलीट डाइट चार्ट तैयार कर सकती है, जिससे की आप एक स्वस्थ शिशु को जनम दे सके।

खुश रहे

हमेशा खुश रहें, तनावमुक्त रहें क्योंकि तनाव आपके लिए और आपके बच्चे के लिए नुकसानदायक साबित हो सकता है।

सकारात्मक वातावरण

pregnancy week by week hindi me – आपके बच्चे का स्वभाव आपके आस पास के वातावरण से प्रभावित होता है, प्रेगनेंसी के दौरान आप जैसे वातावरण में रहेंगी आपके बच्चे पर भी उसका वैसा ही प्रभाव पड़ेगा, इसलिए कोसिस कीजिये की आपके आस पास का वातावरण सकारात्मक हो।

दही और बेसन का उबटन

दही और बेसन को मिलाकर शरीर पर मलें, इससे आपके शरीर की बदबू खत्म हो जाएगी।

आरामदायक जूते और चपल्लो को पहने। ख़ास कर ऊँची हील वाली सैंडल्स पहनने से बचे।

एक गर्भवती महिला को फास्टफूड, तले-भूने हुए और मसालेदार चीजो का सेवन नहीं करना चाहिए।

तो पाठको हमने आपको ऊपर साप्ताहिक प्रेगनेंसी और गर्भावस्था के सप्ताह Pregnancy Week by Week in Hindi बताये| आशा करते है आपको Pregnancy in hindi week by week हिंदी जरूर पसंद आये होंगे।

Post Tags: गर्भावस्था के सप्ताह, pregnancy week by week in hindi, Pregnancy in hindi week by week, pregnancy week by week hindi me, pregnancy week by week in hindi language

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *