हाइपरटेंशन, रक्तचाप को सामान्य करने के तरीके

रक्त वाहिनियों में बहते रक्त द्वारा इन वाहिनियों की दीवारों पर द्वारा डाले गये दबाव को रक्‍तचाप कहते हैं। एक स्वस्थ वयस्क व्यक्ति का सिस्टोलिक रक्तचाप पारा 90 और 120 मिलिमीटर के बीच होता है। सामान्य डायालोस्टिक रक्तचाप पारा 60 से 80 मि.मि. के बीच होता है, वर्तमान दिशा-निर्देशों के अनुसार सामान्य रक्तचाप 120/80 होना चाहिए।

इस स्थिति को डॉक्टर हाइपरटेंशन कहते हैं। यह समस्या आगे चलकर हार्ट अटैक, स्टोक तथा अन्य संभावित रूप से घातक बीमारियों का कारण बन सकता है। अगर आपको हाई ब्लड प्रेशर होने की पुष्टि होती है तो ऐसे में भविष्य में गंभीर हो सकने वाली समस्याओं से बचने के लिए आपको उचित डॉक्टरी मदद व जीवनशैली में आवश्यक बदलाव करने चाहिए।

रक्तचाप को मापने के लिए स्फाइगनोमैनोमीटर यंत्र आर्थात रक्तचापमापी का उपयोग किया जाता है।

अगर आप चाहते हैं कि आपका रक्‍त चाप नियंत्रित रहे, तो निम्‍न जानकारियां इसमें आपकी काफी मदद कर सकती हैं-

1) नमक और सोडियम को उपयोग करें कम
ब्‍लड प्रेशर को नियंत्रण में रखने के लिए नमक का सेवन कम करना चाहिए। दिन भर में एक छोटी चम्‍मच से अधिक नमक आपके लिए अच्‍छा नहीं। फास्ट फूड में सोडियम की मात्रा काफी अधिक होती है इसलिए उनका सेवन भी कम से कम ही करना चाहिए।

2) एल्‍कोहल से दूरी भली
अगर आप शराब पीते हैं तो इसे बंद कर दें। शराब के सेवन से रक्त चाप की समस्या को और अधिक उत्तेजना मिलती है। शराब का अधिक सेवन रक्तचाप ही नहीं, बल्कि गुर्दे व शरीर के अन्य अंगों को भी नुकसान पहुंचाता है।

3) नियमित व्यायाम कीजिए
स्‍वस्‍थ रहने के लिए व्‍यायाम बेहद जरूरी है। रोजाना कम से कम 30 मिनिट का व्यायाम अवश्य करना चाहिए। यदि कोई रोग या समस्या से ग्रस्त हैं तो डॉक्टर से सलाह लें कि आपके लिए किस तरह का व्यायाम उचित है।

4) वजन को नियंत्रित करें
बढ़ा हुआ वजन रक्तचाप की अनियमितता का एक प्रमुख कारण है। यदि आपका वजन अधिक है तो व्यायाम, नियंत्रित भोजन प्रणाली आदि की मदद से आप अपने अधिक वजन को नियंत्रित कर सकते हैं।

6) स्वस्थ और पौष्टिक भोजन करें
भोजन का चयन करते समय सदैव ध्यान रखें कि वह आपके हृदय या स्वास्थय के लिए खतरनाक तो नहीं है। जितना हो सके कम से कम कोलेस्ट्राल वाला भोजन खायें और संतृप्त वसा से भी परहेज करें। फास्ट फूड जैसे पिज्जा, बर्गर, होट डॉग्स और सेंडविच इत्यादि ना खायें।

7) धूम्रपान या तंम्बाकू का सेवन करें कम
धूम्रपान या तंम्बाकू का सेवन करने से रक्त चाप के बिगड़ने की संभावनाएं बहुत बढ़ जाती हैं। यही नहीं धूम्रपान व अन्य किसी भी प्रकार के तम्बाकू का सेवन कैंसर और इस जैसी अनेक बीमारियों का कारण बनता है। इसलिए तम्बाकू और धूम्रपान का सेवन न करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *